इनकम टैक्स विभाग ने जब से नया पोर्टल लॉन्च किया है, समस्याएं खत्म होती नहीं दिख रहीं. अब एक नई समस्या यह आ गई कि 31 जुलाई के बाद इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने वालों की लेट पेमेंट पेनाल्टी कट गई है, जबकि रिटर्न की लास्ट डेट बढ़ाकर 30 सितंबर कर दी गई है.

लेकिन आयकर विभाग का अभी इस पर कोई जवाब नहीं आया है. असल में आमतौर पर इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की लास्ट डेट 31 जुलाई होती है और वेबसाइट के सिस्टम शायद यही फीड हो. लेकिन कोरोना संकट को देखते हुए विभाग ने इस साल रिटर्न दाख‍िल करने की लास्ट डेट बढ़ाकर 30 सितंबर कर दी है.

कितना लेट पेमेंट फीस कटा 

आयकर की धारा 234F के मुताबिक यदि कोई टैक्सपेयर 31 जुलाई की लास्ट डेट के बाद और 31 दिसंबर तक रिटर्न दाख‍िल करता है तो उस परअध‍िकतम 5 हजार रुपये का फाइन लगाया जा सकता है. दिसंबर के बाद यह सीमा अध‍िकतम 10 हजार रुपये हो जाती है.  यह नियम सब पर लागू होता है चाहे वह कोई एक व्यक्ति हो, एचयूएफ, एओपी, बीओआई, कंपनी या फर्म.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट 

सेबी में रजिस्टर्ड फाइनेंश‍ियल एडवाइजर जितेंद्र सोलंकी ने आजतक-इंडिया टुडे से कहा, ‘जो पेनाल्टी कटी है, वह तकनीकी खामियों की वजह से हो सकती है. इनकम टैक्स वेबसाइट को मैनेज कर रही कंपनी पहले ही ऐसी खामियों को स्वीकार कर चुकी है. सीबीडीटी ने जब आईटीआर फाइलिंग की डेट बढ़ा दी है तो पेनाल्टी नहीं ली जानी चाहिए.’

 

@TODAYINDIALIVENEWS