राष्ट्रपति चुनाव और 2024 के लोकसभा चुनावों को लेकर भी हलचल शुरू हो गई है. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की मंगलवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के साथ हुई मुलाकात इसी कड़ी का एक अहम हिस्सा है.

ज्ञात हो कि प्रशांत किशोर ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव के बाद करीब तीन बार शरद पवार से मुलाकात की है. कोशिश है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) के प्रमुख शरद पवार को अगले राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर पेश किया जा सके.

क्या साथ आएंगे नवीन पटनायक?

प्रशांत किशोर की कैलकुलेशन के मुताबिक, अगर विपक्ष एकजुट होता है तो इलेक्टोरल कॉलेज के मामले में सरकारके सामने उसे मजबूती मिलेगी.सिर्फ ओडिशा ही एक ग्रे एरिया है, जहां नवीन पटनायक पूरी तरह से विपक्षी खेमे में खड़े हुए नहीं दिखाए हैं.

पीके ने कांग्रेस को बताया पूरा प्लान!

अब मंगलवार को प्रशांत किशोर की राहुल गांधी, प्रियंका गांधी के साथ हुई बैठक को विपक्ष के बीच जमी बर्फ को पिघलानेवाली कड़ी के रूप में देखा जा रहा है. ज्ञात हो कि प्रशांत किशोर के ममता बनर्जी, जगन रेड्डी, अरविंद केजरीवाल, एमके स्टालिन, उद्धव ठाकरे समेत अन्य नेताओं के साथ अच्छे संबंध हैं.प्रशांत किशोर की ओर से कांग्रेस लीडरशिप को एक प्रेजेंटेशन दी गई, जिसमें कांग्रेस को विभिन्न राज्यों की स्थिति को लेकर समझाया गया.

 

@TODAYINDIALIVENEWS