नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला और बड़ा कैबिनेट फेरबदल हो गया है. पीएम मोदी की इस नई टीम में कई युवा, प्रोफेशनल चेहरों को मौका मिला है, तो वहीं कुछ मंत्रियों की छुट्टी भी हुई है.

1.    स्वास्थ्य मंत्रालय..

कोरोना काल में सबसे अहम रोल स्वास्थ्य मंत्रालय के पास ही रहा था. पिछले डेढ़ साल से देश में जो कुछ भी हो रहा है, उसके केंद्र में स्वास्थ्य मंत्रालय भी रहा है. लेकिन अब डॉक्टर हर्षवर्धन को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

2.    शिक्षा मंत्रालय..

कोरोना काल में शिक्षा क्षेत्र काफी प्रभाव पड़ा, पिछले करीब डेढ़ साल से स्कूल लगभग बंद ही हैं. बच्चे घरों पर ही पढ़ाई कर रहे हैं, ऑनलाइन एजुकेशन पर पूरा ज़ोर चला गया है. ऐसे में कोरोना काल में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका शिक्षा मंत्रालय की भी रही.

3.    श्रम मंत्रालय..

कोरोना काल में सबसे पहले मुश्किल जो सामने आई थी, वो प्रवासी मज़दूरों के पलायन से जुड़ी थी. तब से लेकर अबतक वक्त-वक्त पर अलग-अलग जगह लॉकडाउन लगता रहा है, ऐसे में मज़दूरों का मसला हमेशा चर्चा में रहा है.

4.    पेट्रोलियम मंत्रालय..

पिछले कुछ वक्त में पेट्रोल-डीज़ल के दामों में ऐतिहासिक बढ़ोतरी हुई है, कोरोना काल में टूट अर्थव्यवस्था के बीच आम लोगों पर महंगाई की मार पड़ी है. पेट्रोलियम से जुड़े मंत्रालय का जिम्मा भी अब नए हाथों में दिया गया है,

5.    रेल मंत्रालय..

भारत की लाइफलाइन मानी जाने वाली रेलवे को अब नया बॉस मिला है. कैबिनेट विस्तार में पीयूष गोयल से रेल मंत्रालय छीन लिया गया है, जबकि अब पूर्व अफसर अश्विनी वैष्णव को ये ज़िम्मेदारी दी गई है.

 

@TODAYINDIALIVENEWS