जम्मू-कश्मीर में ड्रोन से आतंकी हमले की साजिश के खुलासे के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं. आसमानी चुनौती से निपटने के लिए भारतीय सेना ने एयर डिफेंस कमांड की स्थापना का ऐलान किया है. सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि एयर डिफेंस कमांड की जिम्मेदारी हमारे एयरस्पेस को सुरक्षित रखने की होगी,

उन्होंने कहा कि जम्मू एयरबेस पर ड्रोन से हमले के बाद सुरक्षा को बढ़ा गया है और अब एक कमांडर की जिम्मेदारी पूरे एयरस्पेस की सुरक्षा की होगी. इसमें राज्य तटरक्षक, इंडियन नेवी समेत कई एजेंसियां शामिल हैं, साथ ही मछुआरे भी हमारी आंख-कान है, मेरिटाइम कमांड सभी लोगों से समन्वय बनाकर काम करेगा.

सेना के दो नए फ्रंट का भी ऐलान

दो मोर्चों पर एक साथ युद्ध की तैयारी के सवाल पर सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि हम दो और फ्रंट बनाएंगे, एक वेस्ट फ्रंट और दूसरा नॉर्थ फ्रंट, अभी नार्दन फ्रंट के पास कई जिम्मेदारी है, यही फ्रंट जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान भी चला रहा है,सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि इसी तरह वेस्ट फ्रंट बनाया जाएगा,

15 अगस्त से शुरू हो जाएगा एयर डिफेंस कमांड
मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि एयर डिफेंस कमांड 15 अगस्त से शुरू हो जाएगा. यह भारतीय वायुसेना, सेना और नौ सेना के संसाधनों को नियंत्रित करेगा. इसके साथ ही कमांड के पास हवाई दुश्मनों से सेना के हथियारों और प्रतिष्ठानों की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी होगी.

 

@TODAYINDIALIVENEWS