दिल्ली के मालवीय नगर में ‘बाबा का ढाबा’ चलाने वाले बुजुर्ग कांता प्रसाद द्वारा गुरुवार रात को आत्महत्या की कोशिश करने का मामला सामने आया है। कांता प्रसाद को इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है, डॉक्टरों द्वारा कई गई जांच के दौरान पता चला है कि उन्होंने नींद की गोलियां खाई थीं और शराब भी पी हुई थी, जिससे वह बेहोश हो गए थे।

पुलिस अब यह जांच कर रही है कि क्या कांता प्रसाद ने आत्महत्या की कोशिश की है? कांता प्रसाद की पत्नी बादामी देवी ने कहा कि मुझे कुछ नहीं पता, मुझे नहीं पता कि उन्होंने क्या खाया। मैंने उन्हें नहीं देखा था। वह बेहोश हो गए, मैं ढाबे पर बैठी थी। मैं उन्हें यहां ले आई। डॉक्टर ने अभी तक हमें कुछ नहीं बताया है। पता नहीं उनके दिमाग में क्या चल रहा था।

मालवीय नगर में सड़क किनारे एक छोटा सा ढाबा चलाने वाले कांता प्रसाद ने फेमस होने के बाद पिछले साल दिसंबर में इसी इलाके में एक नया रेस्टोरेंट खोला था, जो घाटे के चलते कुछ समय बाद ही बंद हो गया। हालात कुछ ऐसे बदल गए कि बाबा को लौटकर अपने पुराने ढाबे पर ही आना पड़ा है।

 

@TODAYINDIALIVENEWS