उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आजतक से खास बात की. अखिलेश यादव ने साफ किया कि समाजवादी पार्टी विधानसभा चुनाव में किसी बड़े दल से गठबंधन नहीं करेगी. वहीं, राम मंदिर की जमीन पर हुए विवाद को लेकर अखिलेश ने कहा कि ट्रस्ट के सदस्यों को इस्तीफा देना चाहिए.

अखिलेश ने कहा कि केंद्र-प्रदेश में बीजेपी की सरकार है, फिर भी ये बुरी तरह हारे हैं. लोकतंत्र की खराब चीजों को अपनाने का काम भाजपा कर रही है, हर जगह झूठे मुकदमे करवा रहे हैं, पैसों का लालच दे रहे हैं और दबाव बनाकर चुनाव जीतना चाहते हैं.

राम मंदिर जमीन घोटाले पर अखिलेश का बयान 

अयोध्या में राम मंदिर की जमीन पर घोटाले के आरोप को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश की जनता ने माना कि राम मंदिर बन रहा अगर वहां से भ्रष्टाचार की खबरें आएं, तो कम से कम ट्रस्ट के सदस्यों को पद से इस्तीफा देना चाहिए. अगर मर्यादा पुरुषोत्तम राम को लेकर कोई काम हो रहा है और ऐसा आरोप लगे तो ट्रस्ट के सदस्यों को इस्तीफा देना चाहिए.

बड़े दलों से गठबंधन नहीं करेगा सपा: अखिलेश

विधानसभा चुनावों में गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी किसी भी बड़े दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी, छोटे दलों को शामिल किया जाएगा. छोटे दलों के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी, जयंत चौधरी की पार्टी के साथ हमारा गठबंधन है, महान दल के साथ हमारा गठबंधन है.

सीएम योगी पर अखिलेश ने कसा तंज

चुनावों को लेकर सीएम योगी के दावे पर अखिलेश यादव ने तंज कसा और कहा कि वो बाबा-संत हैं, कल क्या होने वाला है वो देख लेते हैं. पहले ये बताएं कि मुख्यमंत्री जी उस पार्टी के सदस्य हैं या नहीं है, क्या विधायक उनके साथ हैं. अगर विधायकों को पता लगेगा कि उन्हें टिकट नहीं मिलेगा, तो क्या होगा एक बार सदन बुलाए. पूर्व यूपी सीएम ने कहा कि जिन्होंने कब्रिस्तान-श्मशान की बात की, उन्हें जनता नहीं वोट करेगी.

 

@TODAYINDIALIVENEWS