प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जिन्होंने G7 शिखर सम्मेलन के ‘बिल्डिंग बैक स्ट्रॉन्गर – हेल्थ’ नाम के पहले आउटरीच सत्र में हिस्सा लिया, ने कोरोनो महामारी से ग्लोबल रिकवरी और भविष्य की महामारी को रोकने के लिए वैश्विक एकजुटता, तालमेल और नेतृत्व का आह्वान भी किया. पीएम मोदी ने इन चुनौतियों से निपटने के लिए लोकतांत्रिक और पारदर्शी समाजों की विशेष जिम्मेदारी पर भी जोर दिया.

एक पृथ्वी, एक स्वास्थ्य का संदेशः PM मोदी

कोविड से संबंधित सभी प्रौद्योगिकियों के लिए ट्रिप्स छूट के प्रस्ताव को विभिन्न रूपों में समर्थन मिला है. जबकि सूत्रों का कहना है कि ऑस्ट्रेलिया और लोग इसके समर्थन में दृढ़ता से सामने आए हैं, तो वहीं अमेरिका ने वैक्सीन प्रौद्योगिकी पर बौद्धिक संपदा अधिकारों की छूट के लिए समर्थन की घोषणा की है. भविष्य की महामारियों को रोकने के लिए वैश्विक एकता, नेतृत्व और एकजुटता का आह्वान करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने इस संबंध में लोकतांत्रिक और पारदर्शी समाजों की विशेष जिम्मेदारी पर जोर दिया.

WHO प्रमुख बोले- वैक्सीन शेयरिंग का काम तेजी से हो

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने G-7 शिखर सम्मेलन में वैक्सीन शेयरिंग ऐलान का स्वागत किया है, हालांकि यह भी कहा कि हमें और अधिक की आवश्यकता है और हमें उसमे तेजी लाने की जरुरत है. शिखर सम्मेलन के मेजबान, ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि ग्रुप कम से कम 1 बिलियन डोज देने का वादा करेगा, जिसमें से आधी संख्या संयुक्त राज्य अमेरिका से और 100 मिलियन ब्रिटेन से अगले साल मिलेगी.

 

@TODAYINDAILIVENEWS