पटना : जेडीयू के राज्यसभा सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह के एक बार फिर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चुना जाना तय हो गया है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार द्वारा वशिष्ठ नारायण सिंह की ताजपोशी की मंजूरी दे दिये जाने के बाद मात्र औपचारिकता रह गयी है. वशिष्ठ नारायण सिंह ने गुरुवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए नामांकन किया. इस मौके पर पार्टी के कई नेता मौजूद थे.

वशिष्ठ नारायण सिंह ने गुरुवार को पार्टी नेताओं के साथ जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया. वशिष्ठ नारायण सिंह का प्रदेश अध्यक्ष बनना लगभग तय है. नामांकन के लिए तय समयसीमा की अवधि समाप्त होने तक मात्र एक ही नामांकन दाखिल हुआ. जेडीयू के निर्वाचन अधिकारी मृत्युंजय के मुताबिक, नामांकन के लिए तय समयसीमा की अवधि समाप्त होने तक मात्र एक उम्मीदवार वशिष्ठ नारायण सिंह ने नामांकन दाखिल किया है. उन्होंने 11 सेटों में नामांकन दाखिल किया है.

इस मौके पर वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने हम पर भरोसा जताया है. पार्टी अगले साल होनेवाले विधानसभा चुनाव के लिए तैयार है. बीजेपी-जेडीयू के बीच विवादित बयानों को लेकर उन्होंने कहा कि ऐसे बयानों का कोई मतलब नहीं है. साथ ही उन्होंने बीजेपी के नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल को बधाई भी दी.

साल 2010 से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभालनेवाले वशिष्ठ नारायण सिंह के निर्विरोध चुने जाने की संभावना है. मुख्यमंत्री व पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के विश्वासपात्र माने जानेवाले वशिष्ठ नारायण सिंह पार्टी में सवर्णों का बड़ा चेहरा हैं. इससे पहले वशिष्ठ नारायण सिंह बुधवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार से दोपहर के भोजन पर मिले थे. दोनों नेताओं के बीच लंबी बात भी हुई थी.