कोरोना की वैक्सीन आने पर थोड़ी राहत की खबर मिली ही थी कि अब देश में एक और खतरनाक बीमारी का आगाज हो गया है। मध्यप्रदेश, राजस्थान के बाद अब हिमाचल और केरल राज्य तक बर्ड फ्लू फैल गया है। केरल ने तो इसे राजकीय आपदा घोषित कर दिया है।

हिमाचल के बाद हरियाणा में भी पक्षियों की मौत की खबर
कई राज्यों में बहुत ज्यादा पक्षियों की मौत हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हरियाणा के पंचकुला में एक लाख से ज्यादा पोल्ट्री पक्षियों की मौत की खबर सामने आ रही है। हरियाणा में करीब एक लाख मुर्गी और चूजों की मौत हो चुकी है। मुर्गियों से रहस्यमय तरीके से मरने का सिलसिला पांच दिसंबर से शुरू हुआ। प्रशासन ने मृत मुर्गियों के 80 सैंपल जांच के लिए जालंधर की रीजनल डिजीज डायग्नोस्टिक लैब में भेज दिए हैं।

इसके अलावा हिमाचल के कांगड़ा जिले के पोंग बांध झील क्षेत्र में पाए गए कुछ प्रवासी पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि की गई है। कांगड़ा जिले के पोंग बांध में मृत पाए गए पक्षियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और उनमें बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। मारे गए प्रवासी पक्षियों के सैंपल भोपाल की लैब में भेजे गए थे। इनकी रिपोर्ट में H5N1 की पुष्टि हुई है। बर्ड फ्लू का पता लगने पर प्रशासन ने बांध के आस-पास अंडा और मांस बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

राजस्थान के कई जिलों में फ्लू की पुष्टि
राजस्थान के कई जिलों में बर्ड फ्लू के मामले मिले हैं। झालावाड़ में सबसे पहले बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी, यहां एक साथ सैकड़ों की संख्या में कौओं की मौत हो गई थी। राज्य के कई जिलों में सोमवार को 170 से ज्यादा पक्षियों के मरने के मामले सामने आए थे।

केरल में राजकीय आपदा घोषित
केरल के कोट्टायम और अलप्पुझा जिलों के कुछ इलाकों में बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं। इसी के चलते प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों और उसके आस-पास एक किमी के दायरे में बत्तख, मुर्गियों और अन्य घरेलू पक्षियों को मारने का आदेश दे दिया है। अधिकारियों ने सूचना दी कि बर्ड फ्लू को रोकने के लिए 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा। वहीं केरल ने बर्ड फ्लू को राजकीय आपदा घोषित कर दिया है।

मध्यप्रदेश: इंदौर में 150 कौवों की मौत से मचा हड़कंप
मध्यप्रदेश के इंदौर में मृत पाए गए कौवों में बर्ड फ्लू वायरस की पुष्टि हुई है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के डॉ. अमित मालाकार ने बताया कि अब तक 150 कौवों की मौत हुई है। जांच में कौवों में संक्रमण की पुष्टि के बाद पोल्ट्री फॉर्मों की भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि कौवों में एच5एन8 वायरस की पुष्टि हुई। हालांकि, इसकी इंसानों में मौजूदगी का अभी तक पता नहीं चला है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here