कौंधियारा ब्लाक के अंतर्गत पिपरहटा गांव में भ्रष्टाचार जोरों पर चलता हुआ सत्याग्रह के लोग अनशन पर बैठे अधिकारियों के आने पर सत्याग्रह खत्म करने की बात कही गई लेकिन बात नहीं बन पाई जांच का आश्वासन मिलता हुआ समय निर्धारित नहीं हो पाया जिसके कारण सत्याग्रह नहीं खत्म हुआ
भारतीय किसान यूनियन भानु किसान पंचायत के बाद ब्लॉक के अधिकारी सूची तैयार करने की बात सामने आई एवं विनय शुक्ला की अगुवाई में खंड विकास अधिकारी को ज्ञापन दिया गया इस गांव में भ्रष्टाचार जोरों पर है शौचालय से लेकर आवास तक स्वच्छता का भी उड़ता हुआ धज्जियां कालाबाजारी का खेल चलता हुआ अगर अधिकारी सही रुपया जांच करा लें तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि जांच में अधिकारी भी फंस जाएंगे इस गांव को ओडीएफ घोषित कर दिया गया है लोगों के एक्शन लेने पर अधिकारी जांच नहीं कर रहे हैं स्टेटमेंट और सूची का मिलान करने के बाद भारतीय किसान यूनियन की टीम महासचिव केके मिश्रा एवं राकेश तिवारी विनय अन्य पदाधिकारियों के साथ अपने संगठन के माध्यम से अनशन करने को तैयार इनकी मांग गांव की समस्या का समाधान जल्द से जल्द की जाए देखिए शासन क्या करती है

 

अखिलेश त्रिपाठी ब्यूरो चीफ प्रयागराज