उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 साल की दलित युवती के साथ कथित गैंगरेप और मौत के मामले को योगी सरकार की सिफारिश के 7 दिन बाद सीबीआई ने टेकओवर कर लिया है। इस बीच, सोमवार यानी 12 अक्टूबर को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में इस केस की सुनवाई होनी है। हाईकोर्ट ने खुद नोटिस लेकर लेकर केस में यूपी के शीर्ष अफसरों समेत हाथरस के डीएम और एसपी को तलब किया है। पीड़ित परिवार को भी बुलाया गया है। इसलिए आज कड़ी सुरक्षा में पीड़ित परिवार के पांच सदस्यों को गवाही देने के लिए प्रशासन हाथरस से लखनऊ लाएगा।

लखनऊ रवाना होगा परिवार दोपहर में

हाथरस जिला प्रशासन दोपहर में पीड़ित परिवार को बुलगढ़ी गांव से लेकर लखनऊ रवाना होगा। हाईकोर्ट में सरकार की तरफ से विनोद शाही पैरवी करेंगे। परिवार के हर सदस्य और गवाहों की सुरक्षा के लिए 2-2 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। परिवार की महिला सदस्यों के लिए महिला सुरक्षाकर्मी की तैनाती की गई है। परिवार की मुलाकात भी आज ही शाम तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कराए जाने की चर्चा है, लेकिन अभी इसकी कोई पुष्टि नहीं की गई है।