उत्तर प्रदेश के हाथरस गैंगरेप कांड के बाद अब बलरामपुर में भी एक दलित बेटी की अस्मत लूट ली गई। गैंगरेप आरोपियों ने पीड़िता के कमर और पैर तोड़ दिए। जिससे वह चलने – फिरने लायक नहीं रही। बाद में उसकी मौत हो गई ।
बताया जा रहा है कि इस मामले में भी हाथरस की तरह ही पुलिस ने एक बार फिर संवेदनहीनता दिखाई है । जिस तरह हाथरस गैंगरेप पीड़िता का शव रात में जबरन जलाया गया। इसी तरह बलरामपुर की दुष्कर्म पीड़िता का भी पुलिस ने रात में ही आनन-फानन में अंतिम संस्कार कर दिया गया। भारी पुलिस बल की तैनाती में देर रात पीड़िता का शव जलाए जाने के बाद लोगों में भारी आक्रोश है ।
बताया जा रहा है कि 22 साल की कॉलेज छात्रा का पहले अपहरण किया गया और उसके बाद इंजेक्शन लगाकर उसे बेहोश कर दिया गया। इसके बाद दो आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपियों के नाम साहिल और शाहिद है। जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है । यह मामला बलरामपुर जिले के गैसड़ी इलाके का है।
 बताया जा रहा है कि पीड़िता युवती कॉलेज की फीस जमा करने के लिए कल सुबह 10:00 बजे घर से निकली थी। शाम तक वह नहीं लौटी तो घर वालों ने फोन किया। लेकिन फोन स्विच ऑफ आ रहा था। शाम करीब 7:00 बजे युवती गंभीर हालत में रिक्शे से घर पहुंची। उसके हाथ – पैर टूटे हुए थे और कमर भी टूटी हुई थी । जिससे वह बा मुश्किल रिक्शे से घर पहुंची। परिजन तुरंत उसे डॉक्टर के पास ले गए। लेकिन रास्ते में ही युवती की मौत हो गई ।
बताया जा रहा है कि यह वारदात गैसडी गांव में एक किराना स्टोर के पीछे कमरे में हुई। मृतका की सैंडल उसी कमरे के बाहर मिली है। दुकान मालिक को इस घटना का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है। यह भी सामने आ रहा है कि आरोपियों में गैंगरेप के बाद पीड़िता का इलाज कराने की कोशिश की थी। डॉक्टर को मौके पर बुला लिया गया था। लेकिन शक होने पर डॉक्टर ने कह दिया कि वह घर वालों की गैर मौजूदगी में इलाज नही कर सकता है। इसके बाद पीड़िता को आरोपियों ने रिक्शे में मुर्छित हालत में उसके घर गंभीर हालत में भेज दिया गया।
इस मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है और कहा है कि हाथरस के बाद अब बलरामपुर में भी एक बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार और उत्पीड़न का घृणित अपराध हुआ है । भाजपा सरकार बलरामपुर में हाथरस से जैसी लापरवाही न करें बल्कि अपराधियों पर तुरंत कार्रवाई करें।