घटना के बारे में बताया जाता है कि छिडी गांव के बद्री प्रसाद ने गांव में कुछ लोगों की खेत बटाई में लेकर के किसी तरह खेती आदि करके अपना जीवन गुजारते हैं | वह गांव के ही एक खेत में रात में पानी लगा कर के आए थे | सुबह जब वह खेत देखने गए तो देखा कि उनके खेत का मेड काट कर के उनके खेत का पूरा पानी बहा दिया गया थाके|

जब इसकी शिकायत उन्होंने गांव के ही निवासी जीवन लाल पुत्र तेरसू से किया तो वह आग बबूला हो उठा और भद्दी भद्दी गाली देते हुए मारने के लिए दौड़ा लिया तथा धारदार हथियार से चंदन के ऊपर कई प्रहार किया | जिसमें चंदन कुमार सर पर लगे चोट के बाद जख्मी होकर जमीन पर गिर पड़ा|

जब घरवालों देखें और घटनास्थल की ओर दौड़े तब तक जीवन लाल वहां से भाग गया | चंदन के पिता बद्री प्रसाद ने चंदन को वहां से लेकर की थाने में सूचना देते हुए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे |जहां पर चंदन की गंभीर हालत को देखते हुए प्राथमिक उपचार के बाद उसे तत्काल स्वरूपरानी चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया गया है | जंहा चंदन की हालत गंभीर बनी हुई है |

 

अखिलेश त्रिपाठी ब्यूरो चीफ प्रयागराज