हयातनगर थाना क्षेत्र के एक गांव में खेत के नलकूप के पास बनी झोपड़ी में एक महिला नशे की हालत में पड़ी मिली। उसके कपड़े भी फटे हुए थे। जानकारी मिलने पर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने मौके से शराब के दो खाली व एक आधा पव्वा, गिलास व नमकीन के खाली रैपर बरामद किए। पूछताछ के दौरान महिला ने अपने साथ सामूहिक दुष्‍कर्म होने की बात कही। उसने चार युवकों के नाम भी पुलिस को बताए।

रविवार की सुबह को हयातनगर थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी नरेश रूदायन गांव के रास्ते पर स्थित अपने खेत पर गया तो देखा कि नलकूप के पास बनी झोपड़ी में एक महिला बेहोश अवस्था में पड़ी हुई है। उसके कपड़े भी फटे हुए थे। इस पर उसने गांव के चौकीदार महावीर को सूचना दी। जानकारी मिलने पर चौकीदार ने थाना प्रभारी निरीक्षक विद्युत गोयल को मामले की जानकारी दी। पुलिस मौके पर पहुंची तो देखा कि महिला नशे के हालत में थी और उसके कपड़े फटे हुए थे। पुलिस ने मौके से देशी शराब के दो खाली पव्वे, एक पव्वे में आधी शराब, कोल्ड ड्रिंक व पानी की खाली बोतल, गिलास, नमकीन के खाली पाउच को बरामद किया। कुछ देर बाद पुलिस ने जब महिला से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह शुक्रवार को किसी काम के लिए अपने जेवर गिरवी रखने के लिए बहजोई आई थी।

यहां पर उसने एक दुकान पर छह हजार रुपये में अपने जेवर गिरवी रखे और वापस घर के लिए निकल पड़ी। इसी बीच वह जैसे ही अपने घर जाने के लिए सड़क पर पहुंची तभी उसे गांव निवासी एक युवक मिला। उसने घर जाने की बात पूछकर उसे कार में बैठा लिया। वाहन में पहले से ही तीन अन्य युवक भी सवार थे। जान पहचान के कारण महिला घर जाने के लिए बेझिझक कार में बैठ गई। उसने बताया कि कार सवार युवकों ने रास्ते में पकौड़ी ली और उसे भी खाने के लिए दी। पकौड़ी खाने के कुछ देर बाद वह बेहोश हो गई और रविवार को हयातनगर थाना क्षेत्र में नशे की हालत में मिली। पूछताछ के दौरान ही उसने बताया कि एक आरोपित के मकान में वह किराए पर परचून की दुकान चलाती है। ऐसे में जान पहचान के कारण कार में बैठ गई थी। बेहोश होने के बाद उसके साथ चारों युवकों ने सामूहिक दुष्‍कर्म किया।