15 अगस्त को घूरपुर के दरोगा द्वारा फरियादी को थाने में बुलाकर जातिसूचक गालियां देते हुए जूतों से पीटे जाने का मामल

प्रयागराज : 15 अगस्त को घूरपुर के दरोगा द्वारा फरियादी को थाने में बुलाकर जातिसूचक गालियां देते हुए जूतों से पीटे जाने का मामला वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज के समक्ष पहुंचा। पीड़ित के अनुसार दरोगा की दबंगई का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है।कि एक दरोगा भूपेंद्र कुमार सिंह ने गार्ड को भेजकर घर से बुलवाकर छोटेलाल पुत्र मिरई चक सेमरा घूरपुर को दुकान व कमरा खाली करने के लिए दबाव बनाने हेतु लात जूतों की बरसात कर दी। पीड़ित अपनी बात सुनने के लिए गिड़गिड़ाता रहा लेकिन दरोगा ने एक भी बात नहीं सुनी।

उसके बाद टायर के बने बैट से तब तक पीटा जब तक पीड़ित जमीन पर गिर नहीं गया। गिरने के बाद उसे घसीट कर लॉकअप में बंद कर दिया। बीच बचाव के लिए पहुंचे पूर्व बीडीसी सुरेश निषाद को भी शर्मिंदगी की हद तक बेइज्जत करके थाने से बाहर भगाया। किसान मजदूर सभा के कई कार्यकर्ताओं के पहुंचने पर छोटे लाल को छोड़ा गया। कल क्षेत्राधिकारी करछना के यहां भारतीय किसान मजदूर सभा के लोगों ने पीड़ित को न्याय दिलाने हेतु दरोगा के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए लिखित तहरीर दी। जिसका कोई नतीजा न निकलते देख आज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज के यहां भारतीय किसान मजदूर सभा के लोग लामबंद होकर उक्त दबंग दरोगा के खिलाफ कार्यवाही करने का प्रार्थना पत्र दिया।
*रावेंद्र कुमार तिवारी संवाददाता टुडे इंडिया लाइव न्यूज़ कैमरामैन राजेश कुमार तिवारी*