सुशांत सिंह राजपूत केस में अब जांच सीबीआई के हवाले है। बिहार सरकार की सीबीआई जांच की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी थी। लेकिन महाराष्ट्र सरकार की दलील तब भी यानि की 14 जून से लेकर आज तक यही है कि महाराष्ट्र पुलिस जांच करने में सक्षम है और नाहक इस विषय पर राजनीति की जा रही है। यह बात अलग है कि सुशांत सिंह राजपूत के परिवार को शक था कि जांच को सिर्फ भटकाया जा रहा है, लिहाज किसी भी सूरत में जांच मुंबई पुलिस से ले लेनी चाहिए। महाराष्ट्र सरकार की तरफ से सीबीआई जांच के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई और फैसला फिलहाल सुरक्षित है।

सीबीआई जांच से आपत्ति नहीं

सुशांत सिंह मामले में एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार ने बड़ी बात कही है। वो कहते हैं कि महाराष्ट्र और मुंबई पुलिस को पचास साल से देखा है, मुझे उनके ऊपर भरोसा है। मैं उन लोगों के बयानों पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं करना चाहता जो मुंबई पुलिस पर सवाल कर रहे हैं। यदि किसी को लगता है कि सीबीआई या कोई दूसरी जांच एजेंसी को इस मामले की जांच करनी चाहिए तो वो विरोध नहीं करेंगे।