संवाददाता आशुतोष मिश्रा

उन्नाव।हसनगंज/कोतवाली क्षेत्र के छोटा खेडा गाँव के पास तीन साल पूर्व पत्रकार आशुतोष मिश्र की तहसील से घर जाते समय हत्या कर उनके शव सड़क किनारे फेक दिया था। पत्रकार की हत्या का मामला प्रदेश की तत्कालीन अखिलेश सरकार ने भी संज्ञान लिया था। लेकिन हत्यारो की पहुच व पकड़ के चलते मामले में पूर्ववर्ती से लेकर मौजूदा सरकार में भी अब तक कोई कार्यवाही नही हो सकी है। जिसको लेकर पत्रकारों में रोष है। गुरुवार को दिवंगत पत्रकार आशुतोष मिश्र की चैथी पुण्य तिथि झलोतर स्थित उनके आवास पर मनाई गई। जिसमें मोहान विधान सभा के विधायक ब्रजेश रावत ने दिवंगत पत्रकार के चित्र पर पुष्पअर्पित कर दो मिनट की मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी। विद्यायक ने कहा कि पत्रकार आशुतोष के बलिदान को भुलाया नही जा सकता है। वह उनकी स्मृति में कुछ जरूर करेंगे। वही हत्या के खुलासे के बारे में विधायक ने कहा कि जिले से पत्रकारों का एक पैनल को वह सीएम से मिलाकर कार्यवाही में तेजी लाने के लिए प्रयास करेंगे।
वही हिन्दूजागरण मंच के प्रांतीय मंत्री विमल द्विवेदी ने गजियाबाद में हुए पत्रकार की हत्या का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार को पत्रकारो के लिए कानून बनाकर सुरक्षा व्यवस्था करने की बात कही। इसके अलावा विमल द्विवेदी ने पत्रकार संकल्प दीक्षित के मामले पुलिस के रवैये को पत्रकारों की आजादी पर एक प्रशासनिक हमला बताया। कहा कि जिस देश मे पत्रकारों चैथा स्तम्भ कहा जाता है वहा की व्यवस्था अगर पत्रकारों का शोषण करने लगेगी तो देश मे जंगलराज कायम हो जाएगा।
भारतीय जनहित महासभा के प्रदेश अध्यक्ष विनोद मौर्य ने कहा कि पत्रकार अपनी जान की परवाह न करते हुए हर छोटी सी छोटी खबरे पाठकों तक पहुचाते है। इनके बलिदान को कभी भुलाया नही जा सकता है। कार्यक्रम का संचालक राजेन्द्र पाठक ने किया। इस अवसर पर राजेन्द्र पाठक, जनहित ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के जिला कोषाध्यक्ष विक्की गुप्ता,अवध क्षेत्र युवा मोर्चा ललित द्विवेदी, न्योतनी नगर पंचायत अध्यक्ष मनीष राठौर, मोहान नगर पंचायत अध्यक्ष हयात रसूल, राघवेंद्र सिंह, अजय सिंह, अंकुर सिंह, सर्वेश रावत, दिवाकर सिंह, मसूद ताहिर, कुलदीप शुक्ला, जयवेन्द्र सिह, अभिषेक मिश्र, प्रमोद, आनन्द, प्रवीण दुबे, अमन दीक्षित, सौरभ शुक्ला सहित तमाम पत्रकार गण मौजूद रहे।