कानपुर मे जनता के समाने पुलिस हुई फेल दोस्तों ने पहले ही हत्या कर कर दिया था खेल बर्रा अपहरण कांड कानपुर मे लगातार अपराध का पैराग्राफ बढ़ता ही जा रहा है विकास दुबे का मामला और फिर बर्रा अपहरण कांड का मामले को  देखते कानपुर का नाम अब बच्चा बच्चा जान गया है

वही कानपुर के बर्रा थाना क्षेत्र के अंतर्गत लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण के बाद परिजनों ने पुलिस पर तीस लाख की फिरौती दिलाने और एक माह तक बरती गई लापरवाही पर पुलिस जिम्मेदार बताया  कानपुर मे एक माह तक पुलिस की लापरवाही व पैसा खाने के का आरोप लगाया  संजीत के परिवार को जब बर्रा थाना प्रभारी ने पकड़े गए युवकों का बयान पढ़कर सुनाया तो स्वजन फफक पड़े और उन्होंने पुलिस पर यह आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया संजीत की बहन रुचि का कहना है कि कलंक है ऐसी खाकी पर धिक्कार है ऐसे प्रशासन को जो हमारे भाई को नहीं ढूंढ पाई न उसने पुलिस से कहा कि उन मुल्जिमों को कानून के नहीं हमारे हवाले करो। हम उन्हें जीने नहीं देंगे पुलिस कारागार में डालेगी फिर छोड़ देगी।

जानकारी के मुताबिक फिरौती के लिए संजीत को दोस्तों ने ही मार हत्या कर पांडु नदी में शव फेक दिया संजीत के चाचा कश्मीर सिंह ने रोते बिलखते हुए कहा  पुलिस ही हमारे बेटे के अपहरण की जिम्मेदार है रणजीत राय (निलंबित थाना प्रभारी) ने मिलीभगत करके पैसे खाए और बेटे को भी खा गया। संजीत की मां कुसुमा बेसुध सी हो गईं पिता दीवार पर अपना सिर पटककर रोते रहे वही बर्रा थाना प्रभारी हरमीत सिंह परिजनो के घर पहुंचे और बताया कि पकड़े गए चार आरोपितों ने जो स्टेटमेंट दिया है

वह परिवार को बताया है  आरोपितों से परिवार की भी बात कराई जा रही है वही कानपुर पुलिस अभी तक अपना ही फिरौती की रकम और ना ही शव को बरामद कर सकी लगातार पांडु नदी में गोताखोरों की मदद से शव को ढूंढा जा रहा है वही परिजनो का रो रो कर बुरा हाल है  वहीं युवक के घर सपा विधायक अमिताभ बाजपेयी वह अन्य अधिकारी मौजूद रहै है और सबसे बड़ी बात परिजनो का पुलिस के ऊपर आक्रोश और भी बढ़ता जा रहा है