संवाददाता आशुतोष मिश्रा

उन्नाव। 23 जुलाई 2020 नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) नामक वैश्विक महामारी के चलते इससे निजात पाने के उद्देश्य से बनायी गई विभिन्न 11 समितियों की बैठक का आयोजन जिलाधिकारी श्री रवीन्द्र कुमार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट कार्यालय कक्ष में किया गया।
बैठक में कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्था, चिकित्सकों की उपलब्धता, स्वच्छता एवं भोजन की व्यवस्था, कोविड-19 की आर0टी0पी0सी0आर0, ट्रू-नेट मशीन एन्टीजेन किट की उपलब्धता तथा कराए गए टेस्ट एवं उनके परिणाम की स्थिति, जनपद के नगरीय/ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 एवं संचारी रोग पर प्रभावी नियंत्रण हेतु डोर टू डोर सर्विलांस टीम की उपलब्धता एवं उनके द्वारा किए गए कार्यों आदि बिन्दुओं पर समीक्षा की गई।
जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति को आवश्यक दिशा निर्देश देते हुये समस्त ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई के कार्यों की स्थिति जानते हुये सफाई व सेनीटाईजेशन के कार्याें में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित करते हुये कहा कि कार्यों को अतिशीघ्र पूर्ण काराया जाये।
उन्होंने नगर मजिस्ट्रेट, श्री चंदन पटेल को निर्देशित करते हुये कहा कि जो भी व्यक्ति विशेष अन्य जनपदों से उन्नाव जनपद में प्रवेश करें उनके आने व जाने का माध्यम की सम्पूर्ण जानकारी लेते हुये उनकी जांच अवश्य कराई जाये। उन्होंने कहा कि जो भी होटल, रिसाॅर्ट आदि कोविड से सम्बन्धित मरीजों के लिये तय किये गये हैं उनकी नियमित रूप से साफ-सफाई, मरीजों के खाने पीने की व्यवस्था आदि ससमय सुनिश्चित की जाये। प्रत्येक शनिवार एवं रविवार को विशेष स्वच्छता, सेनिटाइजेशन एवं सर्विलांस का विशेष अभियान चलाया जाये। कोविड-19 से संबंधित कंटेनमेंट जोन, काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग का कार्य सुचारू रूप से सम्पन्न कराये जाने हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया।
जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी, डा0 आशुतोष कुमार से मरीजों के इलाज हेतु पर्याप्त सामग्री के बारे में जानकारी लेते हुये कहा कि मरीजों के इलाज हेतु यदि किसी भी प्रकार की सामग्री जनपद में उपलब्ध न हो तो जिला प्रशासन को अवगत अवश्य करायें, उपलब्ध वेन्टीलेटर को एक्टिव रखा जाये जिससे कि समय रहते मरीजों को उचित इलाज मिल सके तथा मृत्यु दर में कमी आ सके। उन्हांेने कहा कि जनपद की समस्त ग्राम पंचायतों मंें पल्स आॅक्सीमीटर दिलवा दिये जायें जिससे की डोर टू डोर सर्विलांस के कार्यों में बढ़ोत्तरी हो सके। उन्होंने कहा कि जरूरत के अनुसार कोविड चिकित्सालयों, चिकित्सकों, मरीजों के लिये पर्याप्त भोजन, बिस्तर आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये तथा जनपद के नगरीय/ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 एवं संचारी रोग पर प्रभावी नियंत्रण हेतु डोर टू डोर सर्विलांस टीम द्वारा कार्य प्रति दिन होने चाहियें। उन्होंने कहा कि एन्टीजेन जांच के द्वारा जो भी व्यक्ति पाॅजिटिव पाये जायंे उन्हें तत्काल कोविड अस्पतालों में भर्ती कराया जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में जितने भी व्यक्ति होम क्वारेन्टीन में हैं उनका समस्त रिकार्ड/सूची (सम्पूर्ण जानकारी) अपने पास भी रखें और प्रस्तुत भी करें। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से संक्रमित मरीजों को तत्काल अस्पताल पहंुचाया जाये, मरीजों के प्रति किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। उन्होंने कहा कि समस्त एल0वन0 अस्पतालों मे साफ-सफाई व मरीजों के लिये बेड आदि की व्यवस्था को स्वयं जाकर देखें तथा काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग के कार्याें में बढ़ोत्तरी की जाये।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति,नगर मजिस्ट्रेट, चंदन पटेल, मुख्य चिकित्साधिकारी, डा0 आशुतोष कुमार, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0के0 गौतम, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, श्री राजदीप वर्मा सहित समस्त सम्बन्धित उपस्थित रहे।