मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का मंगलवार सुबह निधन होने से उत्तर प्रदेश के साथ ही मध्य प्रदेश के राजनीतिक गलियारे मे शोक की लहर है। उत्तर प्रदेश सरकार ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लालजी टंडन के निधन पर तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है। भाजपा ने अपने सभी संगठनात्मक कार्यक्रम तीन दिन के लिए स्थगित किए। यह जानकारी प्रदेश मीडिया प्रभारी मनीष दीक्षित ने दी।

इसके साथ ही राज्यपाल, मुख्यमंत्री तथा विधानसभा अध्यक्ष ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 10:30 बजे और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 1:00 बजे लालजी टंडन को श्रद्धांजलि देने आएंगे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ आ रहे हैं, 11:30 बजे अमौसी हवाई अड्डे पहुंचेंगे, वहां से लालजी टंडन के चौक स्थित आवास जाएंगे।

लखनऊ निवासी मध्य प्रदेश के 85 वर्षीय एमपी के राज्यपाल लालजी टंडन को 11 जून को लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लम्बी बीमारी के कारण कोमोबिर्टीज और न्यूरो मस्कुलर कमजोरी के कारण वह बाई-रेप वेंटिलेटर को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे। सोमवार शाम को दोबारा तबीयत बिगडऩे पर उन्हेंं ट्रेकोस्टॉमी के माध्यम से फिर क्रिटिकल केयर वेंटिलेटर पर लिया गया है। बीच में उनकी हालत में सुधार सूचनाएं भी मिलती रही हैं। मंगलवार सुबह उनका अस्पताल में निधन हो गया। उनके निधन पर उत्तर प्रदेश सरकार ने आज से तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है।

अंतिम यात्रा दर्शन व यात्रा

पूर्व सांसद लालजी टंडन का अंतिम दर्शन सुबह 10 बजे से 12 बजे तक उनके पुत्र के आवास कोठी नं 9 त्रिलोकनाथ रोड, हजरतगंज पर होगा जबकि दोपहर 12 बजे से उनके पैतृक निवास 64, सोंधी टोला, चौक, लखनऊ पर होगा। इसके बाद उनकी अंतिम यात्रा 4 बजे गुलाला घाट,चौक के लिए प्रस्थान करेगी।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गहरा दु:ख व्यक्त किया

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्वर्गीय लालजी टंडन शालीन, मृदुभाषी एवं जमीन से जुड़े हुए व्यक्ति थे। उन्हेंं राजनीति का लम्बा अनुभव था। पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेयी की लखनऊ सीट से चुनाव जीतकर सांसद बने तथा लखनऊ में उन्होंने अनेक विकास कार्यों को कराया। राज्यपाल ने कहा कि श्री टंडन के निधन से एक अपूरणीय क्षति हुई है। राज्यपाल ने दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करने की कामना करते हुये दु:खी परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त की है।

वह तो लखनऊ के प्राण थे: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी दु:ख प्रकट किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन जी के निधन की खबर सुनकर शोक हुआ। उनके निधन से देश ने एक लोकप्रिय जननेता, योग्य प्रशासक एवं प्रखर समाज सेवी को खोया है। वह वरिष्ठ समाजसेवी थे। वह तो लखनऊ के प्राण थे। लखनऊ तथा उत्तर प्रदेश के विकास के लिए उन्होंने जो किया वह अविस्मरणीय है।

भाजपा नेता के रूप में, उत्तर प्रदेश के मंत्री के रूप में, लखनऊ के सांसद के रूप में, बिहार के राज्यपाल के रूप में तथा मध्य के राज्यपाल के रूप में उन्होंने जो काम किया है, वह उनकी कार्यकुशलता का परिचायक है। मैं ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना प्रार्थना करता हूं। मेरी संवेदनाएं उनके शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं।

हृदय नारायण दीक्षित दु:खी

उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन के निधन का दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि श्री टंडन जी के साथ लंबे समय तक काम करने का अवसर प्राप्त हुआ। उनका लंबा सार्वजनिक जीवन जनता की सेवा में समर्पित रहा है। उन्होंने अपने काम से एक अलग छाप छोड़ी है। स्वभाव से बेहद मिलनसार टंडन जी कार्यकर्ताओं के बीच भी बेहद लोकप्रिय थे। विभिन्न पदों पर रहते हुए उन्होंने जो विकास कार्य कराए उसकी सराहना आज भी लखनऊ और उत्तर प्रदेश के लोग करते हैं। अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश की विधानसभा ने सीपीए इंडिया रीजन की बैठक संपन्न कराई। जिसमें मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए थे। इस सम्मेलन में उन्होंने कहा था, सत्ता का काम सरकार चलाना होता है। उसी तरह विपक्ष को अपनी बात कहने का पूरा हक है, लेकिन दोनों पक्षों को बोलने के दौरान लक्ष्मण रेखा पार नहीं करनी चाहिए। यही सच्चे लोकतंत्र की पहचान है। आलोचना होनी चाहिए पर आचरण का भी ख्याल रखा जाना चाहिए।

विधानसभा अध्यक्ष दीक्षित ने ईश्वर से प्रार्थना है कि है कि वह दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें व शोक संतप्त परिवार को इस अपार दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।