संवाददाता आशुतोष मिश्रा

उन्नाव। जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने आज विकास भवन सभागार में सम्भावित बाढ़ को देखते हुये उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि जिन-जिन क्षेत्रों में बाढ़ का प्रकोप अधिक रहता है उन तहसीलों में बाढ कोविड-19 का कन्ट्ोलरूम संयुक्तरूप से स्थापित किया जाय, जो तीन सिफ्टों में संचालित होता रहे। यह कन्ट्रोलरूम बाढ तथा कोविड का कार्य संयुक्त रूप से करेगा। बाढ राहत पुस्तिका तैयार करने एवं स्थलीय निरीक्षण कर प्रभावित होने वाले परिवारों की सूची अभी से तैयार करने के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कोविड-19 को देखते हुये प्रभावित परिवारों को उचित स्थान पर ठहराने की व्यवस्था का चिन्हांकन कर सूची तैचार कर कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी जाये।
जिलाधिकारी ने उपस्थित उप जिलाधिकारियों को कड़े निर्देश देते हुये कहा कि बाढ़ से किसी भी स्थिति में जन हानि नहीं होनी चाहिये। बाढ़ प्रभावित परिवारों के जिन घरों पर पानी टच करने वाला है, उन्हें तत्काल घर से हटा दिया जाये। जिन स्थानों पर पानी बढ़ रहा है एनाउंसमेंट कराकर लोगों को जगह खाली कराने का प्रयास किया जाये।
बैठक के उपरान्त जिलाधिकारी ने प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने हेतु गरीब कल्याण योजना के तहत स्किल मैपिंग का कार्य श्रम, सेवा योजन, कृषि, आईटीआई आदि विभागों को जिम्मेदारी दी गई है। गोवंश आश्रय के तहत गौशालाओं में टीन शेड लगाये जाने, जल भराव की समस्या को दूर करने, नाले की व्यवस्था समय से कराये जाने के निर्देश दिये गये हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री की यह योजना प्राथमिकता वाले बिन्दुओं में है, इसमें किसी तरह की लापरवाही न की जाये। कान्हा गौशाला में सभी जगह पर काम समय से पूरा करा लिया जाये। शौचालय निर्माण, व्यक्तिगत शौचालय तथा सामुदायिक शौचालय, की प्रगति पर चर्चा करते हुये कहा कि जिनकी योजनायें स्वीकृत हैं, पैसा है, काम बन्द है ऐसी कार्यदायी संस्थाओं को नोटिस जारी करते हुये तुरन्त कार्य चालू कराये जाने के निर्देश अधिशाषी अधिकारियों को दिये।
जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि नगर निकाय के अन्तर्गत जो भी कार्य हो रहे हैं, उनकी समीक्षा बैठक कर ली जाये। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नगरीय आवास की प्रगति पर असंतोष व्यक्त करते हुये परियोजना अधिकारी डूडा से नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि विभिन्न नगर निकायों एवं नगर पंचायतों में जो सर्वेयर ठीक कार्य कर रहे थें उनका स्थान परिवर्तन न किया जाये। जिलाधिकारी ने परियोजना अधिकारी डूडा को हिदायत देते हुए कहा कि अधिशाषी अधिकारियों से रिपोर्ट लेकर उनकी मंशा के अनुरूप सर्वेयरों की तैनाती की जाये।