शादी के महज पांच माह बाद ही दहेज को लेकर नवविवाहिता के वैवाहिक संबंधों में खटास पड़ गई। अब विवाहिता ने पति व अन्य ससुरालियों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है। उसने बीएमडब्ल्यू कार और फ्लैट न देने पर मारपीट करके घर से निकालने का आरोप लगाया है।

विवाह के बाद कोई भी लड़की जब अपनी ससुराल जाती है तो उसकी आंखों में ढेरों सपने सजे होते हैं। नये परिवार में जाकर तारतम्‍य बनाने के साथ उसकी कुछ अपेक्षाएं भी होती हैं। लेकिन कैसा हो जब शादी के महज पांच माह बाद ही सारे सपने धाराशायी हो जाएं। मुकदमे के अनुसार, कमला नगर निवासी अंजुल गुप्ता की शादी 26 फरवरी 2020 को ट्रांस यमुना निवासी दिनेश चंद्र गुप्ता के बेटे निखिल से हुई थी। विवाहिता के स्वजनों ने अपनी हैसियत से अधिक दहेज दिया गया था। दहेज से ससुराली जन खुश नहीं थे। वे बीएमडब्ल्यू कार और एक फ्लैट की मांग करने लगे। दहेज की मांग को पूरा न कर पाने से ससुरालियों ने विवाहिता के साथ मानसिक व शारीरिक उत्पीड़न करना शुरू कर दिया। साथ ही विवाहिता के साथ मामूली विवाद को लेकर आए दिन मारपीट करना कमरे में बंद करके भूखा प्यासा रखने लगे। अब तक विवाहिता सब झेल रही थी। इसके बाद भी ससुराल वालों की हरकतें बढ़ती गई। उसने ससुर पर गंदी नजर रखने का भी आरोप लगाया है। विवाहिता का आराेप है कि 12 जुलाई को ससुराल वालों ने दहेज की मांग को लेकर विवाहिता को पीटकर घर से बाहर निकाल दिया। उनका कहना है कि बीएमडब्ल्यू कार और फ्लैट का इंतजाम होने के बाद ही अब घर में एंट्री मिलेगी। विवाहिता ने थाना एत्माद्​दौला में पहुंचकर तहरीर दी। उसकी तहरीर पर एत्माद्दौला थाने में पति, देवर और सास- ससुर के खिलाफ मुकदमा लिखाया है। इंस्पेक्टर एत्माद्दौला उदयवीर सिंह मलिक ने बताया कि मामले में जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।