सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन (सीबीएसई) में शहर की दिव्यांशी जैन का शत प्रतिशत प्रदर्शन रहा। दिव्यांशी जैन ने 100 प्रतिशत अंक हासिल किए। दिव्यांशी के शोध के क्षेत्र में जाना चाहती हैं। इसी तरह शहर के रानी लक्ष्मी बाई स्कूल आरएलबी इंदिरा नगर की श्रेया श्रीवास्तव व यश राज सिंह राठौर ने 97.8 प्रतिशत अंक हासिल कर शहर का मान बढ़ाया। आरएलबी की ही आस्था त्रिपाठी, समीर 97.4 प्रतिशत अंक  हासिल किए।

शत प्रतिशत अंक किए हासिल (हाईस्कूल: 98 % सीबीएसई, इंटर : 98 % सीबीएसई)

शहर के गणेशगंज निवासी स्टेशनरी व्यापारी राजेश प्रकाश जैन के बेटी ने सीबीएसई की बारहवीं में शत प्रतिशत अंक हासिल किए। दिव्यांशी ने बिना कोचिंग के मदद लिए यह सफलता हासिल की। दिव्यांशी कहती हैं कि कड़ी मेहनत निश्चित तौर पर अपना रंग लाती है। दिव्यांशी बताती हैं कि सफलता के लिए लगन और आत्मविश्वास बेहद जरूरी है। दिव्यांशी शोध के क्षेत्र में जाना चाहती हैं। वह रोजाना तीन से चार घंटे ही पढ़ाई करती हैं। उनका कहना है कि पढ़ाई का उतना ही लाभ है, जितना समझ आए। उसकी मां सीमा जैन गृहणी हैं। दिव्यांशी ने हाईस्कूल में 98% अंक हासिल किए थे।

इतने मिले अंक

अंग्रेजी : 100

संस्कृत : 100

इतिहास : 100

भूगोल : 100

बीमा : 100

अर्थशास्त्र : 100

किसान का बेटा कार्डियोलॉजिस्ट बनकर करना चाहता है देश की सेवा

देश में कार्डियोलॉजस्टि सर्जन की संख्या बहुत कम है। इस लिए नीट क्वालीफाई करके कार्डियोलॉजस्टि बनना चाहते हैं। यह कहना है आरएलबी चिनहट के छात्र ऋतिक वर्मा का। ऋतिक 12वीं में 97.6 प्रतिशत नंबरों के साथ उत्तीर्ण हुए हैं। उन्होंने बताया कि पिता शैलेंद्र कुमार बाराबंकी के काजी बेहटा में रहते हैं। मां गृहणी हैं। ऋतिक ने बताया कि वह रोजाना चार से पांच घंटे पढ़ाई करते थे। जो स्कूल में पढ़ाया जाता था उसका घर पर अच्छे से रिवीजन करते थें। यहां वह चाचा धीरेंद्र के साथ कमता नंद सिटी में रहते हैं। पढ़ाई के दौरान चाचा और सभी परिवारीजनों का सहयोग मिला।

(ऋतिक वर्मा, कक्षा 12, आरएलबी सेक्टर 14 इंदिरानगर, 97.6 प्रतिशत)