संवाददाता आशुतोष मिश्रा

उन्नाव।ग्राम मदनापुर हसनगंज में हो रहे भ्रष्टाचार के विरोध में जिलाधिकारी को दिया शिकायत पत्र ,उन्नाव जहां पूरे भारतवर्ष में कोरोना वायरस की महामारी से देश जूझरहा है वहीं दूसरी ओर भ्रष्टाचार अपने चरम सीमा पर है हम बात करते हैं
ग्राम पंचायत मदनापुर विकासखंड हसनगंज उन्नाव के निवासी मिथिलेश कुमार ने ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार से तंग आकर जिलाधिकारी रविंद्र कुमार को दिया शिकायत पत्र।
होम कवारांटाइन मजदूरों को फर्जी तरीके से रोजगार देने का पेमेंट खाते में डाल कर निकला गया।
पेट्रोल पंप पर नौकरी कर रहे हैं लोगों के खाते में मनरेगा का पैसा भेजा गया |
बिना कार्य कराए बिना खोदे तालाब के नाम पर वह पक्की नाली के निर्माण के नाम पर फर्जी तरीके से ग्राम प्रधान और अधिकारियों की मिलीभगत से पैसा निकाला गया।
निवासी ग्राम पंचायत मदनापुर हसनगंज अनिल कुमार यादव पुत्र राम यादव जोकि प्रधान प्रताप शंकर यादव के भाई हैं शराब ठेका गंगा बैराज में चल रहा है
साथ ही साथ मनरेगा में फर्जी तरीके से धन खाते में लेकर लाभ उठा रहे हैं।
ग्राम पंचायत मदनापुर के स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय का घटिया सामग्री से निर्माण कराया गया,
दबंग ग्राम प्रधान प्रताप यादव व मंत्री आशीष यादव की मिलीभगत से शौचालयों का घटिया निर्माण किया गया
जो कि सभी शौचालय पूरी तरह से जर्जर पालक में मौजूद हैं
और वह आज उपयोग में नहीं है
इसके पूर्व भी कई बार ब्लॉक स्तर पर शिकायत की गई परंतु कोई कार्यवाही नहीं की गई।
जिससे ग्रामवासी ग्राम प्रधान की दबंगई और भ्रष्टाचार से तंग आकर आज उन्नाव तेजतर्रार जिलाधिकारी से मिलकर हो रहे
भ्रष्टाचार से अवगत कराया और शिकायत पत्र भी दिया।
तेजतर्रार जिलाधिकारी महोदय द्वारा तुरंत निष्पक्ष जांच के आदेश भी दिए।
देखना अब यह होगा जिला अधिकारी के आदेश के बाद दबंग ग्राम प्रधान के द्वारा हो रहे भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारी पर क्या कार्रवाई करते हैं।