संवाददाता आशुतोष मिश्रा

उन्नाव। गुरुवार को ग्राम्य विकास व पंचायती राज विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह अचानक हसनगंज तहसील कार्यालय निरीक्षण के लिए पहुंचे. प्रमुख सचिव ने मनरेगा कार्यों का स्थलीय निरीक्षण कर कार्यों की समीक्षा की. वहीं मनरेगा में मजदूरों की संख्या न बता पाने पर एपीओ को फटकार लगाई.
उन्नाव जिलाधिकारीग्राम्य विकास सचिव ने किया निरीक्षणग्राम्य विकास व पंचायती राज विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह गुरुवार को विकासखंड में बने मनरेगा कम्प्यूटर कक्ष में पहुंचे. उन्होंने यहां मौजूद अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी (एपीओ) आशीष कुमार से मनरेगा योजना में चल रहे कामों और उसमें लगे मजदूरों की संख्या की जानकारी ली. विकासखंड में अब तक 8,419 मजदूरों ने काम के लिए आवेदन किया. कई प्रश्नों का जवाब न देने के कारण उन्होंने एपीओ को कड़ी फटकार लगाई।

(निराश्रित महिला की मदद की)

शिकायत लेकर पहुंची एक वृद्धा ने बताया कि पात्र होने के बावजूद अभी तक प्रधान संतोष सिंह ने उसका नाम आवास सूची में नहीं लिखा था. इस पर प्रमुख सचिव खुद वृद्धा के साथ उसके घर पहुंच गए. घर का निरीक्षण कर बीडीओ को आदेश दिया कि वृद्ध महिला को आवास व पेंशन दिलवाया जाए।

(लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त)

प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि मजदूरों को हर हाल में 100 दिन का रोजगार दिया जाए. प्रमुख सचिव ने बताया कि प्रदेश स्तर पर अब तक 39 लाख मजदूरों को काम दिया जा चुका है. इस आंकड़े को 50 लाख तक पहुंचाने का प्रयास चल रहा है. उन्होंने कहा कि इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।