संवाददाता/आकाश चौधरी

कानपुर/ कोरोना वायरस के कारण पूरे देश मे फैली महामारी से बचाव हेतु किये गये लॉकडाउन के कारण जन सामान्य व्यवस्थायें जहाँ अस्त-व्यस्त हो गयी हैं और सभी स्कूलों को कुछ समय के लिए बन्द कर दिए गये हैं।

परिषदीय स्कूलों के अध्ययन रत बच्चे अपने घरों में रह रहे हैं ,उन बच्चों को घरों में ही खेल-खेल में शिक्षा ग्रहण करने जैसे कई मॉड्यूल शिक्षा  विभाग ने तैयार कर बच्चों तक पहुँचाने की पहल की है।वहीँ कानपुर नगर के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ.पवन तिवारी ने जनपद में परिषदीय विद्यालयों में पढ़ रहे गरीब बच्चों के लिये पुस्तकें उपलब्ध कराये जाने हेतु अपने जनपद के बेसिक शिक्षा परिवार के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों व शिक्षकों से अपील की है कि जिनके बच्चों की पुस्तकें खाली हो गयी हैं वह कबाड़ी को न दें और उन्हें नष्ट न होने दे वह सभी स्वेच्छा से अपनी पुस्तकें बीएसए कर्यालय में दान करते हुए उपलब्ध करा दे। दान की हुई पुस्तकों से गॉंव के गरीब बच्चे भी पढ़ कर कुछ सीख सकते है।श्री तिवारी जी ने कहा कि इस प्रकार जो पुस्तकें आप सभी के लिए प्रयोग में नहीं है उनको प्रयोग में लाकर गरीब बच्चों का भविष्य संवारा जा सकता है औऱ किताबें भी कबाड़ में न जा कर बच्चों की आभूषण बनेगीं।जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के इस सार्थक पहल की जहाँ सभी ने समर्थन किया है वहीं  उत्तर प्रदेशीय जूनिया हाई स्कूल(पूर्व मा०) शिक्षक संघ कानपुर नगर के अध्यक्ष सरिता कटियार व महामंत्री विकास तिवारी ने  भी सराहना करते हुए समर्थन किया है कि इस पहल को मूर्ति रूप देने में संगठन के सभी पदाधिकारी व सदस्य सहयोग प्रदान करेंगे।