कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के चलते उत्पन्न चिंता एवं मानसिक स्वास्थ्य के अपने प्रयासों में इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन ने अपनी देवतुल्य कार्यकर्ताओं की टीम को समाज में जागरूकता उत्पन्न करने के लिए युद्ध स्तर पर उतारा हुआ है । संगठन के उत्तर प्रदेश प्रभारी डॉ रविंद्र राणा ने बताया कि कोरोना वायरस चीन से प्रारंभ होकर पूरे विश्व की चिन्ता बन चुका है हालांकि भारत सरकार कोरोना वायरस को रोकने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के उद्देश्य से इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन,उत्तर प्रदेश की पूरी टीम जी-जान से जागरूकता अभियान चला रही है। डॉ रविन्द्र राणा ने बताया कि इन्टर नेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन के कार्यकर्ताओं के माध्यम से कोरोना वायरस से जुड़ी व्यग्रता से निपटने के लिए लोगों को स्वच्छता एवं सतर्कता बरतने की सलाह दी रही है। इन्टर नेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन के देवतुल्य कार्यकर्ताओं द्वारा लोगों को साबुन,सैनिटाइजर मास्क आदि निशुल्क वितरित किए जा रहे हैं। डॉ राणा ने कहा कि कोरोना वायरस से बचने का सबसे बेहतर उपचार स्वच्छता अपनाने के साथ ही सावधानी बरतना है। लोगों को चाहिए कि वे अधिक भीड़भाड़ वाले इलाके में अपने मुख पर माउस का प्रयोग करें। साबुन से अपने हाथों को बार बार साफ रखें।डॉ रविंद्र राणा ने बताया कि कोरोना वायरस से बचने हेतु चाहिए कि हमें ध्यान व योग को नियमित अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस वैश्विक महामारी के चलते भारत वासियों को सावधानी बरतनी चाहिए। भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में न जाएं। सरकार द्वारा जनहित में जारी स्वास्थ्य सलाह को अपनाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की आवश्यकता नहीं है, परंतु सावधानी बरतने की आवश्यकता है।