Home अपराध कानपुर साउथ में “माण्डवा गैंग” के सरग़ना दबंग अजय ठाकुर का कहर...

कानपुर साउथ में “माण्डवा गैंग” के सरग़ना दबंग अजय ठाकुर का कहर जारी..

994
0

कानपुर। बर्रा थानाक्षेत्र के जरौली फेज वन में दबंगों ने स्कूल प्रबंधक के बेटे एलएलबी

छात्र को पीट कर घायल कर दिया। बर्रा थाने के दो सिपाहियों के साथ उन्हीं की बाइक
से घर पर आकर धमकाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया गया था लेकिन पुलिस ने पीड़ित की एफआईआर दर्ज न करके मात्र शान्ति भंग की कार्यवाही करके खाना पूर्ति कर दी जिससे पीड़ित न्याय की आस में दर-दर भटकने को मजबूर है
बल्कि पीड़ित ने पुलिस को साक्ष्य के तौर पे सीसीटीवी फुटेज भी सौंपे थे।

शनिवार को अशोक नगर स्थित कानपुर जर्नलिस्ट क्लब में प्रज्ञा विद्या मंदिर स्कूल के प्रबंधक दिनेश वर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि मोहल्ले में रहने वाले दबंग अजय ठाकुर और जिद्दी पंडित जिन्होंने अपना मंडावा नाम से गैंग बना रखा है जिसमे दर्जनों अपराधी किस्म के युवक शामिल है वो आये दिन शराब पीने के लिए पैसा मांगते हैं। बीते शुक्रवार को दोनों उनके ऑफिस में पहुंचे और 25 हजार रुपये की रंगदारी मांगी। इंकार करने पर बेटे अमन को जान से मारने की धमकी देकर चले गए शनिवार की रात करीब 1:30 बजे दबंग अजय ठाकुर बर्रा थाने के दो सिपाहियों के साथ पुलिस की बाइक से उनके घर पहुंचे और धमका कर चले गए। 16 फरवरी की शाम अमन को पीट कर उसकी बुलेट बाइक छिना ली, उनपर रंगदारी मांगने की शिकायत करने के बावजूद पुलिस ने शान्ति भंग की कार्यवाही की जिसमे वो आसानी से जमानत कराकर वापस आ गए और फिर से गुण्डा टैक्स मांग रहे है।
*तब भी नहीं हुई थी कार्रवाई*

बर्रा थाने में तैनात सिपाही के अपराधियों से साठगांठ का एक फोटो वायरल हुआ था, जिसमें अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। वायरल फोटो एक सिपाही के बर्थ-डे पार्टी की थी, जिसमें बर्रा थाने से वांछित अपराधी अजय ठाकुर शामिल था। वही इनका एक साथी द्वारा बर्रा इंस्पेक्टर बनकर रंगदारी मांगने का मामला भी सामने आया था जरौली के कई लड़कों का गैंग इस समय साउथ सिटी में वारदात कर रहा है।

*वही इसी मामले थाना प्रभारी सतीश सिंह ने बताया कि स्कूल प्रबंधक का बेटा अमन वर्मा स्वयं अजय ठाकुर का पुराना साथी है। और अब अजय ठाकुर और जिद्दी पंडित के एक हो जाने से ये उससे रंजिश मानते हुये मुकदमा दर्ज करना चाहते है। फिर भी अजय ठाकुर और अन्य पर शान्ति भंग की कार्यवाही की जा चुकी है।*