जसरा में विकासखंड अधिकारियों की उदासीनता व दुर्व्यवहार से भड़के व्यापारी, जमकर हुआ हंगामा व अपशब्दों का प्रयोग। जसरा। जसरा के खट गिया मार्ग पर जलजमाव से सड़क तालाब में बदल गई है। जिसका समाचार सोमवार के अंक में प्रमुखता से छपा है। 2 दिन पूर्व व्यापारियों की शिकायत पर खंड विकास अधिकारी मौके पर अपनी टीम के साथ पहुंचे थे। तथा नाली की समस्या के समाधान का आश्वासन देते हुए कहा था कि सोमवार को सुबह 10:00 बजे सफाई कर्मी व जेसीबी भेज कर काम शुरू कराया जाएगा।

सोमवार को सुबह जब 11:00 बजे तक भी विकास खंड कार्यालय की ओर से कोई सफाई कर्मी व जेसीबी मौके पर नहीं पहुंचा तो लोगों ने ग्राम प्रधान से फोन पर बात की तथा एडीओ पंचायत ओम प्रकाश पांडे से भी बात की जिस पर एडीओ पंचायत ने कहा कि सफाई कर्मियों को भेजा जा चुका है लगभग 1 घंटे इंतजार के बाद भी जब जसरा खटिया मार्ग पर कोई नहीं पहुंचा तो लगभग 1:00 बजे व्यापारी इकट्ठा होकर एक बार फिर विकास खंड कार्यालय पहुंचे तथा एडीओ पंचायत से बताया कि कोई सफाई कर्मी नहीं पहुंचा है । लोगों का कहना है इस बात पर एडीओ पंचायत भड़क गए तथा व्यापारियों को से कहा कि जो करना है वह कर लो जहां भी लिखा पढ़ी करना है कर लो ब्लॉक की ओर से कुछ भी नहीं किया जाएगा। इस बात को लेकर व्यापारी व एडीओ पंचायत में नोकझोंक शुरू हो गई तथा देखते ही देखते अपशब्दों का प्रयोग की किया जाने लगा। भड़के व्यापारी आंदोलन व चक्काजाम की चेतावनी देने लगे । नोकझोंक धीरे धीरे बीडियो के कक्ष तक पहुंच गई तथा वहां भी बीडियो के समझाने के बाद भी व्यापारी यो का गुस्सा ठंडा नहीं हुआ । तथा एडीओ पंचायत व गांव के सफाई कर्मी को घेरकर आक्रोशित व्यापारियों ने अपशब्दों का प्रयोग करते हुए दोनों को जमकर लताड़ा। घटना की सूचना पाकर जसरा बाजार से सैकड़ों की संख्या में व्यापारी विकास खंड कार्यालय पहुंच गए । इस बीच ग्राम प्रधान पति भी मौके पर पहुंच गए। व्यापारियों का कहना है की विकास खंड अधिकारी देवेंद्र ओझा के निर्देश के बाद की विकासखंड की ओर से समस्या के समाधान के लिए कुछ नहीं किया गया । जिससे सड़क पर ही नालियों का गंदा पानी भरा हुआ है कई बार प्रार्थना पत्र देने के बाद भी जब कार्रवाई नहीं हुई तो व्यापारियों का सब्र जवाब दे गया । लोगों ने बताया कि इन नालियों के गंदे पानी से होकर सैकड़ों की संख्या में गांव के लोग बाजार आते हैं जिससे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है 3 वर्ष पुरानी समस्या का समाधान में देरी होने से व्यापारी नाराज हैं बाद में भारतीय जनता पार्टी के जिला प्रतिनिधि राजमणि पटेल मौके पर पहुंचकर खंड विकास अधिकारी से वार्ता की। यह तय हुआ कि मनरेगा के तहत फंड का उपयोग करके इस समस्या का समाधान किया जाएगा। तथा तुरंत ही सफाई कर्मियों की एक टीम जसरा खटग या मार्ग पर भेजा गया। इसके बाद लोगों का गुस्सा शांत हुआ उपस्थित लोगों में सतीश साहू, सचिन श्रीवास्तव, रमेश केसरवानी, राजू केसरवानी, अमित केसरवानी, अतुल केसरवानी सहित 5 दर्जन से अधिक लोग उपस्थित रहे रहे।