कानपुर। कर्पूरी सेना के तत्वावधान में जे-सेक्टर, केशवपुरम, आवास विकास-1, कल्यानपुर, कानपुर नगर में स्थित कर्पूरी ठाकुर पार्क व उपवन में जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती समारोह का आयोजन बड़ी ही धूमधाम से मनाया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जननायक कर्पूरी सेना के राष्ट्रीय प्रमुख श्री श्याम नारायण सिंह जी के नेतृत्व में हुई। श्री श्याम नारायण सिंह ने मुख्यअतिथि मा. न्यायमूर्ति डा. आई.एम. कूद्दूसी पूर्व मुख्य न्यायाधीश, उड़ीसा का स्वागत किया तथा कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रज्जवलन के साथ कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा पर माल्यार्पण से शुरू हुआ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जननायक कर्पूरी सेना के राष्ट्रीय प्रमुख श्री श्याम नारायण सिंह ने कहा कि अगर जल्द ही पूरे देश में कर्पूरी फाॅर्मूला लागू नहीं हुआ तो जननायक कर्पूरी सेना का हर एक कार्यकर्ता दिल्ली जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन कर भूख हड़ताल करेगा। क्योंकि जिन्होंने पूरे देश में गरीबों के लिए मसीहा बन कर लड़ाई लड़ी आज उन्हें सरकार भूल गई और कहीं कोई सम्मान नहीं दिया। श्री सिंह ने कहा कि पूरे देश में गरीबों के मसीहा रहे कर्पूरी जी को भारत रत्न से नवाजा जाए। ताकि हम सभी को सम्मान मिल सके।
इस मौके पर मुख्यअतिथि माननीय डा. आई.एम. कूद्दूसी पूर्व मुख्य न्यायाधीश, उड़ीसा ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर जीवन भर गरीबों के अधिकार के लिए सरकार से लड़ते रहे, उन्हीं की देन है कि आज समाज में दलित एवं महादलित को सम्मान पूर्वक उनका अधिकार मिल रहा है। आज उनके सम्मान की बात आई तो सरकार उन्हें भूल गई। उन्होंने ने कहा कि अब ये अपमान स्वीकार नहीं किया जाएगा। सरकार को जल्द ही पूरे देश में कर्पूरी फाॅर्मूला लागू कर कर्पूरी जी को भारत रत्न से सम्मानित किया जाए अन्यथा पूरे देश में स्वाभिमान सम्मान रैली निकालेगें।
कार्यक्रम आयोजक रोहित कुमार सिंह एडवोकेट ने कहा कि देश में हर एक जिले से हजारों की संख्या में कार्यकर्ता रैली निकालकर सरकार से मांग करेंगे कि जल्द से जल्द पूरे देश में कर्पूरी ठाकुर फाॅर्मूला लागू हो जिससे देश में सभी को बराबर का सम्मान मिल सके।
बैठक में मुख्यरूप से मा. हाजी मोहम्मद समीम- शहर काजी, डॉ. शैलेश श्रीवास्तव, मा. एस. बी. सैनी, मा. मोहम्मद सरीफ- न्यायाधीश श्रम न्यायालय कानपुर, मा. सुशील कुमार – एस पी ट्रैफिक, मा. राजेश कुमार एस पी क्राइम, मा. भानु प्रताप सिंह अपर नगर आयुक्त, गजेन्द्र ठाकुर, जितेंद्र पाल श्रीवास्तव ने भी अपने विचार रखें। इस दौरान एडवोकेट रोहित कुमार सिंह, डी.के. सिंह जाटव, डॉ. प्रकाश चन्द्र कुरील, सुनील कठेरिया, जान मोहम्मद जानी, आशाराम, डॉ. राम नारायण, सुरेन्द्र यादव, आदित्य कुमार सिंह आदि सभी पदाधिकारी उपस्थित रहे।