ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग पर विशेषज्ञों का कहना है कि आग की राख न्यू साउथ में उसके पेयजल आपूर्ति को प्रदूषित कर सकती उनका मानना है कि बारिश के मौसम में यह राख नदियों और दूसरे क्षेत्रों में मिल जाएगी जिससे पेयजल आपूर्ति में दिक्कतें हो सकती हैं दक्षिण-पूर्वी ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग लगी है। सरकार ने सीजन में तीसरी बार आपातकाल की घोषणा की है। दसियों हजार पेड़-झाड़ियां और हजारों जानवर इस आग में भस्म हो चुके हैं। जंगल की करीब रहने वाली आबादी को भी भारी नुकसान हुआ है। गर्म हवा और जहरीले धुएं से आस-पास के कस्बों-शहरों में रहना दूभर हो गया है। लोग घर छोड़कर भाग रहे हैं। मृतकों की संख्या 23 तक पहुंच गई है। वहीं करीब 50 करोड़ जानवरों और पक्षियों की मौत हो चुकी है।आग आस्ट्रेलिया के विक्टोरिया और नई साउथ वेल्स के तटीय इलाकों में सबसे ज्यादा फैली हुई है। विक्टोरिया का हाल सबसे ज्यादा भयावह है। शनिवार को तेज हुई हवा ने आग को और भड़का दिया है।

बढ़े तापमान और गर्म हवा के चलते अग्निशमन दल को आग बुझाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कई जगहों पर तापमान 45 डिग्री तक बढ़ गया है। मौसम विभाग के अनुसार हवा का रुख आग को फैलने में सहायता कर रहा है और इससे उठने वाला धुआं बचाव कार्य में बाधा डाल रहा है।।।