कोरोना और टेनरियों की बंदी के चलते कानपुर के चमड़ा कारोबारियों को एक्सपोर्ट एक्सीलेंस अवार्ड में भले ही कम अवार्ड मिले हों लेकिन बदली रणनीति से विदेशी कारोबार में बढ़त हासिल हुई है। शहर के चमड़ा उत्पादों का तुर्की, जापान, न्यूजीलैंड, सूडान, ओमान, इस्राइल जैसे नए देशों में निर्यात होने लगा है। डीजीसीआईएस ने अगस्त और सितंबर की जो रिपोर्ट जारी की है, उसके मुताबिक निर्यात तेजी से बढ़ा है। पिछले साल इन दो महीनों में जहां कानपुर समेत पूरे देश से 11 लाख 17 हजार करोड़ का निर्यात हुआ था। इस बार यह 16 लाख 71 हजार करोड़ रहा।

रिपोर्ट में बताया गया है कि यूएसए के साथ 22.35 फीसदी, जर्मनी के साथ 11.22 फीसदी, यूके के साथ 9.40 फीसदी, इटली के साथ 6.24 फीसदी, फ्रांस के साथ 5.56 फीसदी, स्पेन के साथ 4.31 फीसदी, यूएई के साथ 2.22 फीसदी निर्यात हुआ है। जापान, न्यूजीलैंड, सूड़ान, ओमान समेत कई नए देशों से भी कारोबारी संबंधों की शुरुआत हुई है। धीरे-धीरे अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी सुधार दिख रहा है। सरकार प्रदूषण के नाम पर होने वाली टेनरियों की बंदी खत्म कर दे तो उत्पादन बढ़ने लगेगा।

इन देशों को हुआ निर्यात
यूएसए, जर्मनी, यूके, इटली, फ्रांस, स्पेन, यूएई, नीदरलैंड, हांगकांग, चीन, पोलैंड, बेल्जियम, सोमालिया, वियतनाम, आस्ट्रेलिया, पुर्तगाल, डेनमार्क, कोरिया रिपब्लिक, जापान, रूस, दक्षिण अफ्रीका, चिली, मलयेशिया, आस्ट्रिया, कनाडा, स्वीडन, नाइजीरिया, इंडोनेशिया, मैक्सिको, सउदी अरब, केन्या, स्विटजरलैंड, सोल्वाकिया, हंगरी, बांग्लादेश, थाईलैंड, फिनलैंड, तुर्की, इस्राइल, कंबोडिया, चेक रिपब्लिक, ग्रीस, न्यूजीलैंड, ओमान, श्रीलंका, सिंगापुर, सूडान, ताइवान, नार्वे, जिबूती।#TIL_NEWS 

 

@TODAYINDIALIVENEWS