केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच कई मुद्दों पर तनातनी जारी है। अब बंगाल सरकार अंतरराष्ट्रीय सीमा के अंदर बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को 50 किलोमीटर तक बढ़ाने के केंद्र के फैसले का विरोध किया है। बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने आज विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया। प्रस्ताव पेश होते ही भाजपा ने इसका विरोध शुरू कर दिया। भाजपा नेताओं ने विधानसभा की कार्यवाही का बहिष्कार करते हुए नारेबाजी भी की।

भाजपा ने विधानसभा में प्रस्ताव का किया विरोध
ममता बनर्जी इससे पहले केंद्र सरकार को इस मुद्दे पर एक पत्र भी लिख चुकी हैं। ममता बनर्जी की ओर से जैसे विधानसभा में प्रस्ताव रखा गया कि भाजपा नेताओं ने हंगामा करते हुए जमकर नारेबाजी की और कार्यवाही को बहिष्कार कर बाहर निकले गए।

अगले सप्ताह दिल्ली जाएंगी ममता बनर्जी
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अगले सप्ताह दिल्ली दौरे पर रहेंगी। दिल्ली में वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी कर सकती है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक,ममता बनर्जी 22 नवंबर को दिल्ली के लिए रवाना होंगी और 25 नवंबर तक वह अलग-अलग नेताओं से मुलाकात करेंगी।

पंजाब विधानसभा में भी इसके खिलाफ लाया चुका है प्रस्ताव
बता दें कि पिछले दिनों जारी नई अधिसूचना में बीएसएफ को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी), पासपोर्ट अधिनियम (भारत में प्रवेश) के तहत यह कार्रवाई करने का अधिकार मिला है। अब सीमा सुरक्षा बल ‘बीएसएफ’ के जवान पंजाब, असम व पश्चिम बंगाल में 50 किलोमीटर क्षेत्र तक तलाशी, छापेमारी और गिरफ्तारी कर सकते हैं।#TIL_NEWS

 

#TODAYINDIALIVENEWS