जहां एक तरफ देश 100 करोड़ वैक्सीन डोज लगाने के लक्ष्य के एकदम करीब है वहीं कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर एक बड़ी समस्या भी सामने आई है. देश में 10 करोड़ ऐसे लोग हैं जिन्होंने वैक्सीन की पहली डोज तो लगवाई लेकिन दूसरी डोज लगवाने नहीं आए. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने दूसरी डोज लेने वालों की संख्या में कमी पर चिंता जताई है. वीके पॉल ने कहा, ऐसे लोगों से अपील करें कि वे वैक्सीन को लेकर अपने डर को दूर कर दूसरी डोज लेने के लिए आगे आएं.

मिलती है अच्छी इम्युनिटी दोनों डोज से 

पॉल ने कहा, वैक्सीन की एक डोज से कोरोना के खिलाफ आंशिक रूप से इम्युनिटी मिलती है. जबकि दोनों डोज लेने से अच्छी इम्युनिटी मिलती है. वहीं, बूस्टर डोज की जरूरत पर उन्होंने कहा, वैज्ञानिकों को यह तय करने दीजिए कि इसकी जरूरत है या नहीं. दरअसल, अमेरिका समेत कुछ देशों में वैक्सीन की बूस्टर डोज को मंजूरी दी गई है.

 कोरोना के मामले ब्रिटेन में तेजी से बढ़ रहे

ब्रिटेन में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं. यहां पिछले 24 घंटे में 49,156 मामले सामने आए. जुलाई के बाद के यह एक दिन का सबसे बड़ा नंबर है. इसके अलावा ब्रिटेन में मंगलवार को कोरोना से 223 मौत हुईं. इससे पहले मार्च 2021 में 231 मौत हुई थीं. वहीं, भारत में पिछले 24 घंटे में 14,623 हजार मामले सामने आए हैं. यहां अभी भी एक्टिव केस 1.78 लाख केस हैं.

वैक्सीनेशन भारत में 100 करोड़ के करीब पहुंचा 
भारत में अब तक 99.19 करोड़ वैक्सीन की डोज लग चुकी हैं. देश में 70,23,83,368 लोगों को वैक्सीन की एक डोज लगी है. जबकि 28,89,54,257 फुली वैक्सीनेटेड हो चुके हैं. यह आंकड़ा कई देशों की आबादी से भी अधिक है. भारत में 16 जनवरी को कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई थी.#TIL_NEWS

 

@TODAYINDIALIVENEWS